What is Affiliate Marketing in Hindi 2021

What is Affiliate Marketing in Hindi 2021- अफिलिएट मार्केटिंग क्या है

What is Affiliate Marketing in Hindi 2021
What is Affiliate Marketing in Hindi 2021

आप लोगो ने कई बार अफिलिएट मार्केटिंग का नाम सुना होगा आइये- हम आपको इस कांसेप्ट के फायदे और नुकसान के बारे में बताते है कि अफिलिएट मार्केटिंग क्या है और क्या ये हमारे लिए रेवन्यू जनरेट कर सकता है अर्थात क्या हम अफिलिएट मार्केटिंग के मधयम से पैसा कमा सकते है या नहीं |

जवाब है कि हा ये पैसा कमाने का सरलतम साधन है

अफिलिएट मार्केटिंग एक ऐसा माध्यम है जिसमे आपको केवल कम्पनी के  प्रोडक्ट का प्रचार करना है और आपके प्रयास से जो भी सेल होगी उस पर आपको कमीशन मिलेगा और आपकी एर्निंग होगी | यह एक अच्छा माध्यम है पैसा कमाने का |

ना आपको कोई प्रोडक्ट को खरीदना है, ना ही आपको पैसा लगाना है, ना स्टॉक की चिंता की सामान गोदाम में डंप हो रहा है | आपको केवल बड़ी बड़ी कम्पनी से बात करनी है कि हम आपके सामान को बेचना चाहते है और वो कम्पनी आपको ऑथरिटी दे देंगे कि आप उनके सामान को सेल कर सकते हो |

इन कम्पनियों में ई-कॉमर्स साइड्स -अमेज़न, फिल्फ्कार्ट, स्नेपडील्स, अलीबाबा आदि | कई डोमेन-होस्टिंग प्रोवाइडर कम्पनी भी अपने प्रोडक्ट के लिए अफिलिएट मार्केटिंग का सहारा लेते है, ये कम्पनी अच्छा कमीशन देते है | लेकिन ई-कॉमर्स साइड्स का ज्यादा क्रेज है क्युकी इसमें बहुत सारे मिल जाते है अर्थात् इस प्रोडक्ट में रेंज बहुत सारी है और ये आम लोगो की जरुरत सामान होता है जैसे-

Amazon ये अमरीका की सबसे बड़ी ई-कॉमर्स साइड्स है इनका कहना है की हमारे पास लगभग 8 करोड़ प्रोडक्ट लिस्टेड है और वो भी अलग-अलग प्रकार के, अब आप ही अनुमान लगाईये की अगर इनका इतना बड़ा नेटवर्क है तो आपको इसका फायदा मिल सकता है बस थोडा सी मेहनत करनी है, अपना दिमाग लगाना होगा की हम इसका कैसे काम कर सकते है बस आपको इनकी साइड में जाकर अपना एक अफिलिएट अकाउंट बनाना है फिर ये वरिफाई करेंगे और कुछ समय बाद आपको एक अफिलिएट लिंक प्रोवाइड हो जायगा | जब भी कोई भी उस लिंक से सामान परचेज करेगा तो आपको उसका कमीशन मिलेगा, अलग-अलग केटेगरी के लिए अलग-अलग कमीशन होता है पर याद रहे कि आपको कम्पनी की गाइडलाइन्स को फॉलो करना होगा वर्ना आपका अकाउंट ससपेंड हो जायेगा |

Filpkart यह एक भारतीय स्टार्ट-अप कम्पनी है, जिसको बाद में अमेरिका की एक बड़ी ई-कॉमर्स कम्पनी वालमार्ट ने खरीद लिया अब वालमार्ट का इसमें अधिकार है इसमें भी अफिलिएट अकाउंट की जरुरत होती है इसके बाद ही सामान बेच सकते है इसमे भी अलग-अलग केटेगरी के लिए अलग-अलग कमीशन होता है |

सभी ई-कॉमर्स कम्पनी में एक से ही नियम है बस थोडा सा ही अन्तर होता है

Q-Llink इनका बहुत सारी ई-कॉमर्स कम्पनियों से टैयेप होता है ये आपके और इन ई-कॉमर्स कम्पनियों के बीच एक लिंक बना देते है क्युकी कई ई-कॉमर्स कम्पनियों डायरेक्ट अपना लिंक सभी को नहीं देते वो इन जैसी अन्य कम्पनी को कहते है आप आप खुद ही वेरीफाई करो और हमारे सामान का लिंक बनाओ, फिर ये कम्पनी आपकी द्वारा सेलेक्ट सामान में अपना लिंक बनाकर आपको देते है और सेल होने पर आपको कमीशन मिलता है | कुछ अन्य कम्पनी भी है जिनका इन ई-कॉमर्स कम्पनियों से डायरेक्ट कनेक्शन होता है ये बहुत सारी ई-कॉमर्स कम्पनियों से टैयेप होता है तो अब आपको इस कम्पनी में अकाउंट बनाना होता है इन कम्पनी में बहुत से कम्पनी लिस्टेड होती है जैसे स्नेपडेल्स, मेशु लाइम-रोड, टाटा-क्लिक आदि | इनका एक ये फायदा है की आपको ई-कॉमर्स कम्पनियों में अलग अलग अकाउंट बनाने की जरुरत नहीं आप इस तरह की कम्पनी में अपना अकाउंट बना कर इनमे लिस्टेड कम्पनी का प्रोडक्ट सेल कर सकते हो और पैसा कमा सकते हो |

डोमेन और होस्टिंग प्रोवाइडर कम्पनी गो-डेडी, होस्टिंगर आदि अन्य कई कम्पनी है जो आपके द्वारा सेल करने पर आपको कमीशन देते है | ये कम्पनी कमीशन तो अच्छा देते है 40-60 परसेंट तक लेकिन ये सभी का लिए नहीं है क्युकी इसको केवल वेबसाइट बनाने वाले ही लिंगे बाकियों के लिए इसका कोई महत्व नहीं है |

अगर आप भी पैसा कमाना चाहते है तो ये एक सरलतम साधन है, ई-कॉमर्स कम्पनियों  के प्रोडक्ट आसानी से सेल हो सकते है, इसके द्वारा आप बहुत पैसा जनरेट कर सकते है इसके लिए बस आपको कुछ नौलेज होने चाहिए कि आप किस प्रकार ये काम कर सकते है | मेरी नजर में तो इससे बेहतर कोई साधन नहीं हो सकता ना तो सामान खरीदने का झंझट, ना ही घर घर जाकर सामान बेचना है और ना ही ज्यादा मेहनत, बस कुछ ट्रिक चाहिए वो क्या है अब वो आपको बताते है-

  • आप एक ई-कॉमर्स वेबसाइट बना सकते है जिसमे आप सभी कम्पनी के प्रोडक्ट को शो-केस कर सकते है इसके लिए आपको वू- कॉमर्स, योमला या फिर वर्डप्रेस बहुत से प्लेटफार्म है जो आपको फ्री में ये सर्विस प्रोवाइड करवाते है आपको बस एक डोमेन और होस्टिंग की तैयारी करनी है (इसके लिए आपको कुछ पैसा खर्च करना होगा) लकिन कई फ्री डोमेन और होस्टिंग भी है जिसमे भी आप अपनी वेबसाइट बना सकते है और अफिलिएट मार्केटिंग कर सकते है बस एक बार आपकी साईट में ट्राफिक आना शुरू हो गया तो आपके दिए लिंक से परचेज करने पर आपको कमीशन मिलता है  |
  • आप एक ब्लॉग क्रिएट कर सकते है वर्डप्रेस या गूगल के फ्री प्लेटफार्म ब्लोगर में और अपने अफिलिएट लिंक के द्वरा भी कम्पनी के प्रोडक्ट को प्रमोट कर सकते है और  अच्छा खासा पैसा कम सकते है लकिन शर्त ये है कि आपके ब्लॉग में ट्राफिक होना चाहिए तभी आपको फायदा होगा क्युकी जितना ज्यादा ट्राफिक उतना ज्यादा मुनाफा |
  • You-Tube चैनल के द्वारा भी आप अफिलिएट मार्केटिंग कर सकते है, जितने ज्यादा आपके सस्क्र्बर होगे उतना ही आपको फायदा होगा, मतलब आपके चाहने वाले होंगे उतना ही आपको फायदा होगा |
  • फेसबुक पेज या फेसबुक ग्रुप्स के द्वारा भी अफिलिएट मार्केटिंग कर सकते है आपका पेज या ग्रुप जितना बड़ा होगा उतना ही आपको फायदा है

ऐसे कई अन्य माध्यम है जिनके द्वरा आप अफिलिएट मार्केटिंग कर सकते है बस आपके पास ट्राफिक होना चाहिए क्युकी जब तक आपके पास ट्राफिक नहीं होगा तो आपको ये ये फायदा नही मिल पायेगा इसलिए अफिलिएट मार्केटिंग की पहले और आखरी शर्त ये है कि आपके पास ट्राफिक होना चाहिए वरना बात नहीं बन पायेगी |

अब बात आती है कि क्या इसके नुकसान भी है या सिर्फ फायदे ही फायदे है | इसके कई नुकसान भी है आइये अब इस बारे में भी बात कर लेते है

  • आपको अपनी वेबसाइट के लिए डोमन और होस्टिंग का खर्चा होगा जो थोडा महंगा सौदा है अगर आप ट्राफिक जनरेट नहीं कर पाए तो डोमेन और होस्टिंग पर हुआ खर्च का नुकसान हो जायेगा और आपका समय भी ख़राब हो जायेगा |
  • अगर आपके पास धेर्य नहीं है तो ये आपके लिए नहीं है क्युकी इसमें बहुत समय और धेर्य की आवश्यकता होती है ये एक रात में फल देने वाला काम नहीं है, आपको बहुत सोच समझ के फैसला करना है कि आप इस काम को कर सकते है या नहीं |
  • कई बार कम्पनी पालिसी बदलती रहती है जिसके बारे में हमको पता रहना चाहिए वरना हमको फायदे से ज्यादा नुकसान हो जाता है क्युकी कम्पनी की गाइडलाइन्स या टर्म एंड कंडीशन काफी छोटे अक्षर में होती है जिस पर हमारा ध्यान नहीं रहता जिसके कारण हमको मेहनत करने बाद भी उतना कमीशन नहीं मिलता जितना की हमने सोचा होता है |
  • कई बार हम ट्राफिक जनरेट के चक्कर में वेबसाइट या ब्लॉग का पेड प्रोमोशन भी कर देते है और हमको उसके अनुसार रिजल्ट नहीं मिलता है तो हमारा वो पैसा भी वेस्ट हो जाता है और कई बार इस तरह के प्रमोशन को कम्पनी अवैध मानते हुए आपका कमीशन नहीं देती या रोक देती है इसलिए सही जानकारी होना भी जरुरी है वरना लॉस होना निश्चित है |
  • कई बार आपके द्वारा भेजे हुए ट्राफिक का डाटा कम्पनी अपने पास सेव रखते है और फिर उस कस्टमर को खुद ही अपना प्रोडक्ट दिखाना शुरु कर देते है ताकि आपको कमीशन न देना पड़े क्युकी कम्पनी के पास सारा डाटा होता है कि कस्टमर ने क्या ख़रीदा, कितने दाम का खरीदा, नाम, एड्रेस आदि जानकारी तो वो खुद ही कस्टमर को अपने प्रोडक्ट दिखा देता है |

और भी कई नुकसान हो सकते है जिनके बारे आपको पता होना चाहिए | कम्पनी की गाइडलाइन्स या टर्म एंड कंडीशन का विशेष ध्यान देना चाहिए क्युकी ये अक्सर ये इंग्लिश में होते है और भारी भारी शब्दों का प्रयोग होता है जिसमे हम उलझ जाते है क्युकी हम उन पर ध्यान ही नहीं देतें पैसा कमाने के चक्कर में, जिसका फायदा ये कंपनिया उठा लेती है

अन्त में ये ही कहना चाहूँगा कि हर कार्य के कुछ न कुछ साइड इफक्ट तो होते ही है बस हमारी नज़र का फेर है कि हम उसको किस नज़र से देखते है वरना कोई भी ऐसा बिज़नस नहीं है जिसमें केवल लाभ ही हो, हानी न हो बस हमको सतर्कता पूर्वक कार्य करना है तो लाभ होना ही होना है

खाली सोचने से काम नहीं चलेगा अचछे कर्म का फल हमेशा ही सुखद होता है |   

        ऑनलाइन एअर्निंग इन Earning Online Earning in Affiliate Marketing and Networking Services

Leave a Reply

Your email address will not be published.